ठखेलों से जुड़ीं मानसिक और शारीरिक समस्याएं तथा उनकी होम्योपैथिक चिकित्सा: डॉ एम डी...

आदर्श हिमाचल ब्यूूरो दिल्ली-खेल जगत में बीते कुछ वषों से मानसिक स्वास्थय का मुद्दा गर्माया हुआ है और इसी कारण कई खिलाड़ी को खेल से...

आकाशवाणी ने की एआईआरनेक्‍स्‍ट की शुरुआत 

आदर्श हिमाचल ब्यूरो शिमला। एक अभूतपूर्व कदम उठाते हुए आकाशवाणी ने 28 नवंबर, 2021 से यंग इंडिया का प्रतिनिधित्व करने वाली आवाजों के लिए अपने स्टूडियो...

उत्तर प्रदेश: राजधानी में किसान महापंचायत में तय होगी आगे की रणनीति, संयुक्त किसान...

लखनऊ पुलिस कमिश्नरेट की टीम ने कसी कमर आदर्श हिमाचल ब्यूरो लखनऊ।(आरएनएस ) तीन विवादास्पद कृषि कानूनों की वापसी समेत अन्य प्रमुख मांगों को लेकर एक...

राकेश टिकैत का किसान आंदोलन तत्काल वापस लेने से इंकार, कृषि कानूनों को संसद...

आदर्श हिमाचल ब्यूरो संयुक्त किसान मोर्चा ने तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने के निर्णय का स्वागत किया है। किसान मोर्चा ने कहा कि उचित...

बड़ी खबर: किसानों के आंदोलन के आगे झुकी मोदी सरकार, वापस लिए गए तीनों...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की किसानों से वापिस खेतों को लौट जाने की अपील आदर्श हिमाचल ब्यूरो नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को राष्ट्र...

विशेष: COP26 में भारत की कूटनीतिक जीत, मगर जलवायु वित्त का वादा रहा चित

निशान्त जहाँ एक ओर COP26 को कोयले की काली हकीक़त को दुनिया के सामने लाने के लिए याद रखा जायेगा, वहीँ दूसरी ओर इसे भारत...

विशेष: COP26: बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के लिए कमज़ोर देशों के समर्थन में अपने पत्ते खेलने की...

आदर्श हिमाचल ब्यूरो एक बेहद तेज़ घटनाक्रम में यूके की COP प्रेसीडेंसी ने ग्लासगो क्लाइमेट समिट के लिए फैसलों का एक नया मसौदा जारी किया है। इस मसौदे...
पराली जलाते लोग (फाइल फोटो)

विशेष: इधर ला नीना बरपाएगा सर्द कहर, उधर पराली घोलेगी हवा में ज़हर

  जहाँ एक और ला नीना के लगातार दूसरे साल प्रकट होने से मौसम विज्ञानी एक तीव्र सर्दी अपेक्षित कर रहे हैं, वहीँ उत्तर भारत में आने वाले महीनों में गंभीर वायु प्रदूषण भी अपेक्षित है। अक्टूबर में भले ही पराली जलाने की घटनाओं की कम संख्या और व्यापक बारिश और हिमपात ने प्रदूषण को नियंत्रण में रखा, लेकिन स्थिति अब बदलती दिख रही है। तापमान में गिरावट और अन्य मौसम संबंधी वजहों, जैसे हवा की गति धीमी होना और उसकी दिशा, के चलते प्रदूषण का स्तर फिर से भारत-गंगा के मैदानी इलाकों (IGP) के अधिकांश शहरों में 'बहुत खराब' और 'खतरनाक' श्रेणियों में है। पटाखों और पराली जलाने के मौसमी कारकों ने, हमेशा की तरह, समस्या को और बढ़ा दिया है, क्योंकि फसल अवशेष जलाने की घटनाओं का उच्चतम स्तर दिवाली के साथ मेल खाता है। ला नीना और वायु प्रदूषण के बीच का संबंध लगातार दूसरी बार ला नीना के साथ, उत्तर पश्चिम भारत इस मौसम में भीषण सर्द मौसम के लिए तैयार है। मौसम विज्ञानी इस साल IGP  भर में रिकॉर्ड लो (कम) तापमान की भविष्यवाणी कर रहे हैं, नवंबर और दिसंबर में सामान्य से अधिक ठंड पड़ने की उम्मीद है। ब्लूमबर्ग की एक हालिया रिपोर्ट के अनुसार, जनवरी और फरवरी में कुछ उत्तरी क्षेत्रों में, ठीक होने से पहले, भारत में तापमान 3 डिग्री सेल्सियस (37 फ़ारेनहाइट) तक गिरने की उम्मीद है। "एक के बाद एक दूसरे ला नीना की एक बड़ी संभावना है, जिसके परिणामस्वरूप दिसंबर 2021-फरवरी 2022 तक अत्यधिक ठंड पड़ सकती है। इस अवधि के दौरान समुद्री घटनाओं के चरम पर होने की उम्मीद है। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि सर्दियों की...

विशेष: ‘बेहद जोखिम भरे’ हैं अब निवेशकों के लिये कार्बन-सघन इन्फ्रास्ट्रक्चर

आदर्श हिमाचल ब्यूरो वैश्विक अर्थव्‍यवस्‍था ऊर्जा और परिवहन क्षेत्र में निम्‍न कार्बन के टिपिंग प्‍वाइंट्स को छू रही है। आने वाले दशक में सभी क्षेत्र...

विशेष: COP26 में लिया यह फैसला क्या भेजेगा कोयले को इतिहास की किताब में?

आदर्श हिमाचल ब्यूरो यूनाइटेड किंगडम के नेतृत्व में, दुनिया के कुछ दो दर्जन देशों और अन्य संस्थानों ने, ग्लोबल कोल टू क्लीन पावर ट्रांजिशन स्टेटमेंट पर हस्ताक्षर कर घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर नई कोयला बिजली उत्पादन में सभी निवेशों को समाप्त करने के लिए प्रतिबद्धता दिखाई है।   इस घटनाक्रम पर प्रतिक्रिया देते हुए, इस साल के जलवायु शिखर सम्मेलन, COP26, के अध्यक्ष आलोक शर्मा ने कहा, “आज, मुझे लगता है कि हम कह सकते हैं कि कोयले का अंत निकट है।” आगे, ई3जी में जीवाश्‍म ईंधन अनुसंधान प्रबंधक, लियो रॉबर्ट्स कहते हैं, "ग्लासगो में पिछले कुछ दिनों के दौरान कोयले से विमुखता तेजी पकड़ रही है। नयी साझेदारियों और धन कोयले को इतिहास की बात बनाने के लिये एक साथ आ रहे हैं।  देशों की प्रतिबद्धताओं को गंभीर दानदाताओं के धन से सम्‍बल मिला है, जो दुनिया के कोयला जलाने वाले देशों को सबसे अधिक प्रदूषणकारी जीवाश्म ईंधन से मुंह मोड़ने और स्वच्छ ऊर्जा संक्रमण को लागू करने में मदद करने के लिए नए तंत्र और उपकरणों से लैस है।” वो आगे कहते हैं, “बृहस्‍पतिवार को की गयी घोषणाओं और की गयी पहल की व्‍यापकता औ गहराई पर गौर करें तो इससे यह इशारा मिलता है कि कोयले से पीछा छुड़ाने का सिलसिला कितनी तेजी से रफ्तार पकड़ रहा है। अनेक देश कोयले से चलने वाली नयी परियोजनाओं पर निवेश बंद करने का निर्णायक विकल्‍प चुन रहे हैं। अनेक देशों ने तो अपने-अपने कोयला बिजलीघरों को आवश्‍यक रूप से बंद करने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी है।  संयुक्‍त रूप से ये घोषणाएं यह जाहिर करती है कि कोयला युग का अंत अब नजदीक आ रहा है। कोयले को इतिहास के कूड़ेदान में ले जाने वाली कन्वेयर बेल्ट आगे बढ़ रही है। वैश्विक तापमान में वृद्धि को डेढ़ डिग्री सेल्सियस तक सीमित रखने के लक्ष्‍य के अनुरूप इसे और तेज करने की आवश्यकता है।" “सीओपी26 में कोयले की प्रगति दर्शाती है कि वैश्विक कोयले से बाहर निकलने के लिए परिस्थितियाँ परिपक्व हैं। अब हमें बड़े पैमाने पर आने वाले स्वच्छ ऊर्जा वित्त को सभी देशों को तेजी से उपलब्ध कराने की आवश्यकता है ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि सभी देश 2030 तक ओईसीडी देशों को कोयला मुक्त और शेष दुनिया को 2040 तक कोयले से स्वच्छ बनाने के लिए आत्मविश्वास से आगे बढ़ सकें।” इसी क्रम में, एम्‍बर के ग्‍लोबल लीड डेवी जोंस ने कहा, “आज की प्रतिबद्धताओं से सभी महाद्वीपों को कोयले को चरणबद्ध तरीके से समाप्त करने की अपनी यात्रा में मदद मिलेगी। यह इतना बड़ा क्षण है क्योंकि अब तक वैश्विक तापमान में वृद्धि को 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित रखने की महत्वाकांक्षा में सबसे बड़ा अंतर कोयला उत्पादन में तेजी से गिरावट है - यानी प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं के लिए 2030 तक और शेष दुनिया में 2040 तक कोयला बिजली को चरणबद्ध ढंग से समाप्‍त करना।’’ “यूरोप में, पोलैंड कोयले का आखिरी बड़ा गढ़ है, और यह ज्यादातर यूरोप की कोयला-मुक्त बनने के सफर को अंजाम देगा। अफ्रीका में, दक्षिण अफ्रीका और मोरक्को अफ्रीका के 95% कोयला उत्पादन के लिए जिम्मेदार हैं, इसलिए यह अफ्रीका को कोयला मुक्त बनने की ओर ले जाएगा। एशिया में, वियतनाम जैसे विकासशील देश पहली बार कोयले को चरणबद्ध तरीके से समाप्त करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। दुनिया के तीन सबसे बड़े कोयला देशों - चीन, भारत और अमेरिका ने पहले ही प्रतिबद्धताएँ बना ली हैं जो अपनी बिजली प्रणालियों को कोयले से दूर ले जाने की शुरुआत कर रहे हैं। यह गति इस तथ्य को रेखांकित करती है कि कोयले से स्वच्छ बिजली में तत्काल रूपांतरण करना अर्थव्यवस्था, स्वास्थ्य और जलवायु के लिए सबसे अच्छा विकल्प है।’’ “यह ब्रिटिश सरकार द्वारा तैयार की गयी साइन-ऑन सूची नहीं है। इन देशों में से प्रत्येक में यह वर्षों का राष्ट्रीय कार्य है और वे इस पर काम कर रहे हैं कि वे कितनी जल्दी कोयले को चरणबद्ध तरीके से समाप्त कर सकते हैं। ये देश कोयले को चरणबद्ध ढंग से खत्‍म करना चाहते हैं। इस सूची में फाइनेंसर भी शामिल हैं, जो  कोयला नहीं बल्कि स्वच्छ ऊर्जा को ऐसी जगह के तौर पर रेखांकित करते हैं, जहां स्मार्ट धन है।’’ “कोयले को लेकर पेरिस से अब तक की कहानी यही रही है कि नए कोयला बिजली संयंत्रों के निर्माण को कैसे रोका जाए। यह घोषणा "कोई नयी कोयला परियोजना नहीं" के लक्ष्‍य से हटकर "कोयले को चरणबद्ध से समाप्‍त" करने की तरफ पूरी तरह से ले जाती है।’’ अफ्रीका के एफसीडीओ मंत्री विकी फोर्ड ने कहा, “स्वच्छ ऊर्जा की ओर न्यायोचित और समावेशी रूपांतरण ब्रिटेन और अफ्रीका के लिए फायदे का सौदा है। कोयले को चरणबद्ध तरीके से खत्म करना ब्रिटेन के सीओपी प्रेसीडेंसी का एक केंद्रीय उद्देश्य है और यह विकासशील दुनिया में सैकड़ों हजार हरित रोजगार पैदा करते हुए ब्रिटिश लोगों के लिए एक स्वच्छ, हरित भविष्य में सहयोग करेगा।’’ "यह नया वित्त पोषण अक्षय ऊर्जा में रूपांतरण करने वाले अफ्रीकी देशों के प्रस्ताव पर सहयोग को रूपांतरित कर देगा। द अफ्रीका रीजनल क्‍लाइमेट एंड नेचर प्रोग्राम पूरे अफ्रीका में हरित बिजली नेटवर्क का समर्थन करेगा, जिससे 4 मिलियन से अधिक लोग लाभान्वित होंगे और ट्रांसफ़ॉर्मिंग एनर्जी एक्सेस प्लेटफ़ॉर्म विकासशील दुनिया भर में 25 मिलियन अधिक लोगों को स्वच्छ ऊर्जा का उपयोग करते हुए देखेगा।'' ब्रिटेन पहले से ही दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं में से कई सबसे महत्वाकांक्षी स्वच्छ ऊर्जा प्रतिबद्धताओं को पूरा कर रहा है। ब्रिटेन वर्ष 2024 तक कोयला बिजली को पूरी तरह से समाप्त करने के लिए प्रतिबद्ध है और वह 2035 तक एक डीकार्बोनाइज्ड पावर सिस्टम के साथ अक्षय ऊर्जा उत्पादन को आगे बढ़ा रहा है। यह इस बात को दर्शा रहा है कि जलवायु परिवर्तन से बढ़ती अर्थव्यवस्था की कीमत पर निपटने की जरूरत नहीं है। वर्ष 1990 से 2019 के बीच ब्रिटेन की अर्थव्‍यवस्‍था में 78 प्रतिशत की वृद्धि हुई, वहीं कार्बन उत्‍सर्जन में 44 प्रतिशत की गिरावट आयी। यह जी7 देशों में शामिल किसी मुल्‍क में सबसे तेजी से आयी गिरावट है।  ब्रिटेन में कोयले से बनने वाली बिजली अब 2 प्रतिशत से भी कम है जो एक दशक पहले करीब 40  प्रतिशत थी। इन उपलब्धियों में पिछले महीने ब्रिटेन के लैंडमार्क नेट जीरो स्‍ट्रैटेजी का प्रकाशन भी शामिल है, जिसमें उद्योगों तथा उपभोक्‍ताओं को अक्षय ऊर्जा को अपनाने के लिये उठाये जाने वाले जरूरी कदमों के बारे में रेखांकित किया गया है। वहीं, इसमें अच्‍छे वेतन वाली सैकड़ों हजारों नौकरियों और वर्ष 2030 तक 90 अरब पाउंड तक के निजी निवेश के बारे में भी बताया गया है।

Stay connected

0FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -

Latest article

नप अध्यक्ष के पति के खिलाफ कार्रवाई नहीं हुई तो होगा आंदोलन : सुरजीत...

आदर्श हिमाचल सोलन (बद्दी): नगर परिषद बद्दी के वार्ड नंबर-9 के पार्षद सुरजीत चौधरी ने कहा कि नप के कार्यकारी अधिकारी व नप अध्यक्षा...
सांकेतिक तस्वीर

विशेष: देश में हर साल अंग न मिलने से होती हैं चार लाख मौतें,...

कुछ अंगों का दान जीवन काल में संभव आदर्श हिमाचल ब्यूरो शिमला। रोल-मॉडल बन कर अपने मासूम बेटे शाश्वत  के सभी अंग दान करने वाले इंदिरा...
राजकीय प्राथमिक पाठशाला तड़ोल के 25 लाख रुपए की लागत से नवनिर्मित भवन का लोकार्पण करते हुए स्वास्थ्य मंत्री डा. राजीव सैजल

नई शिक्षा नीति युवाओं के कौशल विकास में कारगर : डाॅ. सैजल

आदर्श हिमाचल ब्यूरो सोलन। स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण तथा आयुष मंत्री डाॅ. राजीव सैजल ने कहा कि नई शिक्षा नीति वर्तमान समय की आवश्यकताओं के...