EXCLUSIVE: झटका….डाॅक्टर्स की सुरक्षा में सेंध

क्वारंटीन पीरियड हुआ कम, 14 दिनों के पीरियड में क़ी है कटौती

442

दीपिका शर्मा 

शिमला। कोरोना के समय जब फ्रंट वाॅरियर्स ही ठीक नहीं रहेंगे तो ये जंग आखिर कैसे जीती जायगी। इसे लेकर एमओ संघ ने भी आवाज उठाई है ।
दरअसल केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय भारत सरकार नए निर्देशों के अनुसार अब कोरोना मरीजों के इलाज में लगे डॉक्टर्स का  क्वारंटीन पीरियड में कटौती कर दी गई है। अब 14 की जगह 7 दिन तक इन्हें क्वारंटीन किया जाएगा। 
नए दिशा-निर्देशों के अनुसार स्वास्थ्य कर्मियों को कोविड वार्ड्स में ड्यूटी करने के पश्चात क्वॉरेंटाइन पीरियड जो कि 14 दिन का होता है इसे कम कर दिया गया है।डॉक्टरज का कहना है कि स्वास्थ्य कर्मियों को 14 दिन का क्वॉरेंटाइन पीरियड, कोविड  ड्यूटी करने के बाद मिलना ही चाहिए, अन्यथा इससे ना केवल स्वास्थ्य कर्मी के परिवार व दूसरे स्वास्थ्य कर्मियों को संक्रमण फैलने का खतरा होगा, वहीं  सबसे बड़ा खतरा “कम्युनिटी स्प्रेड ” का होगा।
    इसलिए सभी चिकित्सक एकमत भी है कि महामारी के संक्रमण को देखते हुए और जनता की भलाई  मे क्वॉरेंटाइन पीरियड 14 दिन का जो कोबिड में ड्यूटी करने के बाद आवश्यक है, उसको जारी रखा जाना चाहिए क्योंकि पिछले दिनों ही टांडा मेडिकल कॉलेज  में एक चिकित्सक क्वारंटीन पीरियड के दसवें दिन पॉजिटिव आए थे,तो इससे यह स्पष्ट होता है कि चाहे जितनी भी सावधानी बरती जाए लेकिन एक संभावना हमेशा रहती है कि स्वास्थ्य कर्मी इससे संक्रमित हो सकते हैं। यदि  चिकित्सक  उस समय क्वॉरेंटाइन में नहीं होते तो इन 10 दिनों के दौरान और भी स्वास्थ्य कर्मियों  और अन्य रोगियों को संक्रमण हो सकता था।तो सभी चिकित्सकों का एक मत था है कि सरकार  को क्वॉरेंटाइन पीरियड 14 दिन का स्वास्थ्य कर्मियों को जारी रखना चाहिए।

ये भी है दिक्कत….

इसके अलावा संघ ने गुजारिश करी की जो डॉक्टर 31 मार्च को अपना 3 साल का कार्यकाल पूरा कर चुके हैं उनको आज दिन तक नियमित नहीं किया गया उसकी वजह से ना केवल उनको वितीय नुकसान हो रहा है बल्कि उनके करियर पर भी एक कुठाराघात हो रहा है, क्योंकि पीजीआई की स्नातकोत्तर परीक्षा आ गई है और उसकी वजह से यह लोग उस परीक्षा में बैठने के योग्य नहीं हो पा रहे हैं।  संघ के महासचिव डॉ पुष्पेंद्र वर्मा ने कहा कि इन सब कारणों के कारण प्रदेश के सारे चिकित्सकों में रोष व्याप्त हो रहा है इसलिए सरकार से अनुरोध है कि वह जल्द से जल्द इस पर निर्णय ले और स्वास्थ्य कर्मियों के क्वॉरेंटाइन पीरियड को जारी रखें और साथ में जल्द से जल्द इन चिकित्सकों को नियमित करें।

ये बोले अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य आर डी धीमान….

इस बारे में अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य आरडी धीमान का कहना है कि डाॅक्टर्स के क्वारंटीन पीरियड को लेकर सरकार गौर करेगी।
loading...
Learn Everyday