आजादी के अमृत महोत्सव के जश्न में 6 सदस्यीय दल साइकिल पर पूरा करेगा मनाली से कारगिल तक का सफर

मंडी: देश सहित पूरे प्रदेश में आजादी के 75 वर्ष पूरे होने के उपलक्ष्य में आजादी का अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है। इसके तहत हर घर तिंरगा फहराने के साथ ही कई तरह के आयोजन देश और प्रदेश में हो रहे है,लेकिन हिमाचल में 6 सदस्यीय साइकिलिस्टों का एक दल इस आजादी के महोत्सव को अनोखे अंदाज़ में मनाने जा रहा है। यह दल “मिशन कारगिल” के तहत मनाली से कारगिल तक का सफर साइकिल पर पूरा करेगा और कारगिल पहुंच कर शहीदों को श्रद्धांजलि देने के साथ ही उनकी शहादत को नमन करेगा।

Ads

इस 6 सदस्यी दल में हमीरपुर से भारतीय प्रशासनिक अधिकारी संदीप कुमार, मंडी से फ़ोटो जर्नलिस्ट जसप्रीत पॉल, ऊना से राजेंद्र मनन, जसबीर सिंह,जगतार सिंह और डॉ.रोहित अपने इस सफर की शुरुवात मनाली से 14 अगस्त को करेंगे। 14 से 21 अगस्त तक 8 दिन का पूरा सफर यह 6 लोग साइकिल पर पूरा कर 21 अगस्त को कारगिल पहुंचेंगे। वहीं यह दल स्वतंत्रता दिवस पर 15 अगस्त को शिंगो ला पास जिसकी ऊंचाई 16 हजार 750 फीट हैं वहां पर तिंरगा फहराएंगे।

मनाली से कारगिल तक का यह पूरा सफर 525 किलोमीटर के आस पास का है। इसमें से 75 फ़ीसदी तक का सफर इन साइकिलिस्टों को ऑफ़ रोड़ ही पूरा करना होगा। जो कि इस एक्सपेडिशन की सबसे बड़ी चुनौती रहने वाली है। यह सारा क्षेत्र हायर एल्टीट्यूड है ऐसे में इस क्षेत्र ने जहां ऑक्सीजन की कमी के चलते पैदल चलना भी मुश्किल है वहां इस सफ़र को साइकिल से पूरा करना किसी चुनौती से कम नहीं होगा। वहीं अगर सफ़र के रुट की बात की जाए तो मनाली से होते हुए यह दल केलांग,जिस्पा, दारचा,शिंगो ला पास,गम्बो रंगजुम,पदम्,अबराम,संकु से होते हुए कारगिल पहुंचेगा।

“कारगिल मिशन” दल में शामिल सदस्य जसप्रीत पॉल ने बताया कि देश की आजादी के 75 वर्ष पूरे हो रहे है। ऐसे में हर देशवासी के लिए यह खास पल है ओर इसका जश्न भी सभी अपने-अपने तरीके से मना रहे है। इस खास पल में अपनी भागेदारी सुनिश्चित करने के लिए उन्होंने ओर दल के अन्य सदस्यों ने “मिशन कारगिल” को चुना है। इस मिशन के तहत 6 लोग साइकिल पर कारगिल को फ़तह करेंगे। कारगिल पहुंच कर सभी सदस्य करगिल वार में शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि देने के साथ ही उनकी शहादत को नमन करेंगे।

उन्होंने बताया कि इस मिशन का उद्देश्य जहां युवाओं के अंदर देशभक्ति के भाव को जागृत करना है तो वहीं पर्यावरण संरक्षण के साथ ही भारत सरकार की ओर से चलाए जा रहे फिट इंडिया मूवमेंट के तहत लोगों को फिटनेस के प्रति जागरूक करना भी हैं। उनका साइकिल से इस सफर को पूरा करने का एक ओर उद्देश्य यह भी है कि आज की जो युवा पीढ़ी नशे की गिरफ्त में फंसती जा रही है उन्हें नशे से दूर कर खेलों के साथ ही फिटनेस की तरफ़ मोड़ा जा सके।

पहले भी साइकलिंग में जसप्रीत हासिल कर चुके है कई मुकाम

साइकलिंग में जसप्रीत ने प्रदेश का नाम भी रोशन किया है। फायरफ़ॉक्स-फ़ायरस्ट्रोम चैलेंज 2021 में देश में पहला स्थान जसप्रीत हासिल किया है। इसके साथ ही कई जिलास्तरीय प्रतियोगिताओं में भी वह विजेता रह चुके है। इसके साथ ही उन्होंने तीन प्रमुख यात्राएं भारतीय प्रशासनिक अधिकारी संदीप कुमार के साथ साइकलिंग के माध्यम से पूरी की है जिसमें की पहली यात्रा मंडी के थूनाग से चंद्रताल,रोहतांग पास से होते हुए चार दिन में पूरी की है। वहीं दूसरी यात्रा मनाली से चंबा वाया उदयपुर,किलाड़ से होते हुए साच पास दर्रे को भी साइकिल पर पार किया है। तीसरी यात्रा उन्होंने शिमला से चांसल पास तक कि साइकिल पर पूरी की है। इसके साथ ही साइकिल चैंपियनशिप की बात की जाए तो जसप्रीत पॉल ने 23 जून से 26 जून तक आयोजित हुई फर्स्ट एमटीवी हिमाचल चैंपियनशिप में तीसरा स्थान हासिल किया है।