बरागटा पर भड़की ब्लाक कांग्रेस कमेटी जुब्बल नावर कोटखाई, कहा गुमराह करना बंद करें

धरातल में लोगों की परेशानी दूर करने के बजाय गुमराह और श्रेय की राजनीती में व्यस्त हैं मौजूदा विधायक

766
प्रतीकात्मक फोटो
प्रतीकात्मक फोटो
आदर्श हिमाचल ब्यूरो 
शिमला। मौजूदा विधायक धरातल में लोगों की परेशानियों को दूर करने की बजाय ग़ुमराह और श्रेय की राजनीति में व्यस्त हैं। कोरोना महामारी से जहां जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया हैं वही स्वास्थ्य जैसी महत्वपूर्ण सुविधाओं का टोटा हैं। यह बात  मोतीलाल डेरटा अध्यक्ष ब्लॉक कांग्रेस कमेटी जुब्बल नावर कोटखाई, गुमान सिंह चौहान, अमोलक राम मैहता,
कपिल ठाकुर ब्लॉक युवा कांग्रेस अध्यक्ष कोटखाई , कमलेश ठाकुर महिला कांग्रेस अध्यक्ष कोटखाई, जतिन्दर मैहता, सुरेश चौहान, विपिन आज़ाद, राकेश स्तान, नारायण दत्त शर्मा, आंनद मैहता, गुलशन दीवान, सागर क्लान्टा, रमेश चौहान, बृज लाल आज़ाद, अरुण रान्टा, चेतन आज़ाद ने सयुक्त प्रेस विज्ञप्ति ज़ारी करते हुए कही। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार के तीन बजट बीत चुके हैं मौजूदा विधायक द्वारा क्षेत्र में कोई नई योजना लाना तो दूर की बात हैं पूर्व कांग्रेस सरकार के समय चले हुए विकासात्मक कार्यो को भी बंद करवाने का काम किया हैं। पूर्व कांग्रेस में स्वीकृत कार्यो को बंद करवाने के बाद के विधायक  पूर्व कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में स्वीकृत योजनाओं का श्रेय लेने के लिए झूठ का सहारा ले रहे हैं।
उन्होंने कहा कि मौजूदा विधायक ने अपनी गृह पंचायत थरोला में पूर्व विधायक व पूर्व मुख्य संसदीय सचिव रोहित ठाकुर के अथक प्रयासों से खोलें गए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र को पुनः खोलने की बात कर रहे हैं जबकि पूर्व कांग्रेस सरकार ने *03 जून, 2017* को प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र थरोला पद स्वीकृत कर खोलने की अधिसूचना जारी कर विधिवत रूप से चालू (Functional) कर दिया था। ताजुब की बात हैं कि विधायक को मालूम नहीं हैं कि उनकी गृह पंचायत में पीएचसी हैं या स्वास्थ्य उपकेन्द्र। पिछले दो वर्षो में सरकार द्वारा कई बार डॉक्टर और फार्मासिस्ट के पदों को भरने के लिए आदेश ज़ारी किए गए लेकिन जानबूझकर आदेशों को निरस्त करवाया गया ताकि भाजपा के झूठ का पर्दाफ़ाश न हो सकें। यदि किसी को आशंका हैं तो वह आरटीआई से सूचना प्राप्त कर सकता हैं। उन्होंने विधायक को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि पूर्व कांग्रेस सरकार ने एपीड़ा के तहत सेब बाहुलिय क्षेत्र की मांग को देखते हुए तीन सीए स्टोर स्वीकृत करवाएं थे लेक़िन मौजूद विधायक ने एपीड़ा निदेशक बनते ही सीए स्टोर के एमओयू होने के बावजूद भी रदद् करवा दिए और आज नरेन्दर बरागटा सीए स्टोर खोलने की मांग कर रहे हैं। जनता जानना चाहती हैं कि आपने स्वीकृत सीए स्टोर क्यों रदद् करवाएं।*  *झूठ और ग़ुमराह* की राजनीति करना भाजपा की पुरानी आदत हैं, बिना बजट के प्रगतिनगर में फ्रूट प्रोसेसिंग प्लांट की आधारशिला रखी गई थी जिसका आज तक काम शुरू नही हुआ। इतिहास गवाह हैं कि आर्थिक मंदी के दौरान भी भाजपा ने बड़े-2 डिफॉल्टर उद्योगपतियों के ऋण माफ़ किए हैं। उन्होंने वैश्विक कोरोना महामारी को देखते हुए अन्नदाता किसान के  कृषि ऋण माफ़ करने की मांग की हैं।  मोतीलाल डेरटा ने विधायक की कार्यप्रणाली पर सवाल उठाते लोगों को गुमराह न करने की नसीहत दी हैं। मौजूदा भाजपा सरकार के कार्यकाल में ओलावृष्टि के नुक़सान की भरपाई करना तो दूर यदि पिछले दो वर्षो से  बागवानों की MIS के तहत  ₹50 करोड़ की बक़ाया राशि भी ज़ारी होती हैं तो किसानों के लिए बड़ी राहत होगी।
loading...
Learn Everyday