प्रधानमंत्री ने फिर किया निराश, हिमाचल के लिए नहीं की कोई घोषणाः नरेश चौहान

आदर्श हिमाचल ब्यूरो,

Ads

शिमला। कांग्रेस कमेटी के उपाध्यक्ष नरेश चौहान ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार फिर हिमाचल को निराश किया है। नरेंद्र मोदी ने शनिवार को मंडी में आयोजित युवा विजय संकल्प रैली को संबोधित किया। नरेश चौहान ने शिमला में एक प्रैस कांफ्रेस में कहा कर्ज में डूबे हिमाचल के लिए कोई बड़ी आर्थिक सहायता करने की उम्मीद लोग प्रधानमंत्री से कर रहे थे, लेकिन हर बार की तरह प्रधानमंत्री ने केवल हिमाचल को अपना दूसरा घर बताकर यहां से गहरा नाता होने की बात कर लोगों को निराश किया।

नरेश चौहान ने जयराम सरकार पर भी हमला बोला और कहा कि यह सरकार हिमाचल के 70 लाख लोगों के लिए केंद्र की मोदी सरकार से कुछ भी नहीं मांग पा रही। उन्होंने कहा कि जयराम सरकार इस तरह के आयोजन कर कर्ज में डूबे सरकारी खजाने पर करोडों का बोझ डाल रही है। सरकार को कर्ज पर व्हाइट पेपर लाकर प्रदेश की जनता को बताना चाहिए कि कर्ज के पैसे को कहां-कहां पर खर्च किया गया।

आठ साल पहले की घोषणाएं भी जमीन पर नहीं उतरी
नरेश चौहान ने कहा कि प्रधानमंत्री ने आठ साल पहले हिमाचल में अपने दौरे के दौरान कई बड़े वादे किए थे लेकिन वे जमीनी स्तर पर नहीं उतरे। नरेद्र मोदी ने केंद्र में भाजपा सरकार बनने पर सेब पर इंपोर्ट डयूटी 100 फीसदी करने के साथ ही एप्पल कंस्ट्रेट को कोल्ड ड्रिंक्स में मिलाने का वादा किया था। मगर आज तक कुछ भी नहीं किया। आज विदेशों से सस्ता सेब देश में पहुंच रहा है, जिससे हिमाचल के सेब मार्केट में गिर रहा है। रही सही कसर नरेंद्र मोदी के दोस्त अदानी कर रहे हैं। हिमाचल में सेब के दाम गिराने में अडानी का हाथ होने के बारे में बागवान पूरी तरह से वाकिफ है।

69 एनएच की डीपीआर तक नहीं बनाई
नरेश चौहान ने कहा कि केंद्र सरकार ने हिमाचल के लिए 69 एऩएच देने की घोषणाएं कीं। एनएच बनाने का काम तो दूर इनकी डीपीआर भी नहीं बनाई गई। नरेंद्र मोदी हिमाचल की पुरानी योजनाओं का ही जिक्र करते दिखे।

बेरोजगारी और मंहगाई की बात तक नही की
नरेश चौहान ने कहा कि बेरोजगारी और मंहगाई आज देश के साथ हिमाचल की सबसे बड़ी समस्या बन गई है। मगर प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में इसका कोई जिक्र नहीं किया। हिमाचल में बेरजोगारी दर देश में सबसे अधिक है। 2014 में नरेंद्र मोदी ने भाजपा सरकार बनने पर हर साल 2 करोड़ युवाओं को रोजगार देने का वादा किया था। इस तरह 16 करोड़ युवाओं को रोजगार मिलना चाहिए था, लेकिन उल्टे आज देश में बेरोजगारी दर अब तक का रिकार्ड तोड़ चुकी है। मंहगाई आसमान छू रही है। बेहतर होता कि प्रधानमंत्री मंहगाई और बेरोजगारी कंट्रोल करने के लिए कदम उठाने की बात करते। मगर ऐसा नहीं हुआ।

उन्होंने कांग्रेस पार्टी की ओर से सरकार से मांग कि वह रोजगार पर एक व्हाइट पेपर लाकर बताए कि बीते पांच सालों में कितना रोजगार, किन किन क्षेत्रो में दिया।

अग्निपथ योजना से सबसे ज्यादा हिमाचल का युवा प्रभावित
नरेश चौहान ने कहा है कि सेना में हिमाचल के युवाओं की हिस्सेदार सबसे अधिक है। लेकिन मोदी सरकार ने चार साल की सेवाओँ वाली अग्निपथ योजना लाकर यहां के युवाओं के भविष्य को अंधकार में धकेल दिया।

जयराम सरकार केंद्र की मोदी सरकार से हिमाचल की मांगें नहीं रख पा रही
एक सवाल के जवाब में नरेश चौहान ने कहा है कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि जयराम सरकार हिमाचल की जनता की मांगों को केंद्र की सरकार के सामने नहीं उठा पा रही। उन्होंने सवाल किया कि अगर कुछ दिया ही नहीं तो जयराम सरकार आभार किस बात का जता रही है।