आईटीबीपी ने प्रदेश भर में सात हजार पौधे रोप कर पर्यावरण सुरक्षा का दिया संदेश

सीमा सुरक्षा के साथ पर्यावरण की रक्षा में जवान निभा रहे अपना दायित्वः डॉ दीपक पांडेय

12000 हेक्टेयर वन भूमि पर 1 करोड़ 20 लाख पौधे रोपित करेगी जयराम सरकारः गोविंद सिंह ठाकुर

आदर्श हिमाचल ब्यूरो

Ads
शिमला। हिमाचल प्रदेश में भारत तिब्बत सीमा आईटीबीपी के जवानों ने प्रदेश भर में पौधा रोपण का आयोजन किया गया। आईटीबीवी ने शिमला सहित प्रदेश के कई इलाकों में आइटीबीपी के जवानों ने 7 हजार पौधे रोपित किए और पर्यावरण सुरक्षा का संदेश दिया। राजधानी शिमला के उपनगर तारा देवी क्षेत्र में आनंदपुर में भी आइटीबीवी के जवानों ने पौधारोपण किया। यहां करीब 1600 वृक्ष लगाए गए।
आइटीबीपी के सेक्टर कमांडर डॉ दीपक पांडेय
आइटीबीपी के सेक्टर कमांडर डॉ दीपक पांडेय
आइटीबीपी के सेक्टर कमांडर डॉ दीपक पांडेय ने कहा की आइटीबीपी चीन और भारत के बीच चल रहे तनाव में भी सीमाओं की सुरक्षा के लिए दिन रात तैनात है। आइटीबीपी के 18000 किलोमीटर की उंचाई पर चीन की सीमाओं पर जीम है। उन्होंने कहा कि सीमाओं की सुरक्षा हमारा दायित्व है लेकिन पर्यावरण की रक्षा के लिए भी आइटीबीपी के जवान अपना फर्ज निभा रहे हैं। केंद्र के आह्वान पर आज प्रदेश भर में पौधारोपण कार्यक्रम आयोजित किया गया।
वन मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर
वन मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर
इस अवसर पर जवानों का उत्साहबर्धन करते हुए वन मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर भी उपस्थित रहे। उन्होंने कहा कि भारतीय तिब्बत सीमा पुलिस बल देश की रक्षा के साथ-साथ पर्यावरण को बचाने हेतु अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। सेना पुलिस के जवानों की यह वो वर्दी है जिसको देखकर मृत शरीर में प्राण आ जाए। इस वर्दी को देखकर दुश्मन भारत माता की तरफ आंख उठाने का दुःसाहस नहीं कर सकता है।
उन्होंने कहा कि सीमाओं के प्रहरियों की बदौलत ही देश शांति और सुरक्षा के साथ-साथ विकास के पथ पर तीव्र गति से अग्रसर है। वन मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने कहा कि भारत तिब्बत सीमा पुलिस बल अपने गठन (1962) से लेकर वर्तमान समय तक पूरे हिमालयी क्षेत्र की चीन से लगती सीमाओं की चुनौतीपूर्ण निगरानी के दायित्व कुशलतापूर्वक निर्वहन कर रहा है।
उन्होंने कहा कि आइटीबीपी के जवान सीमा में तो दिन रात पहरा दे ही रहे है। इसके साथ ही समाज के प्रति दायित्व का निर्वाह भी कर रहे है। उन्होंने बताया कि ग्राम पंचायत कोटी में शोघी के समीप दो एकड़ जमीन पर आनंद पुर में करीब 1600 पौधे लगाए गए है।