स्कूल प्रबंधन समिति के पदाधिकारी और शिक्षकगण विशेष रूप4 से रहे उपस्थित।

आदर्श हिमाचल ब्यूरो

Ads

प्रेम सागर चौधरी कुल्लू (बंजार )
जिला कुल्लू उपमंडल बंजार की तीर्थन घाटी के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक स्कूल गुशैनी में 20 जुलाई से 26 जुलाई तक राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) के तहत सात दिवसीय विशेष आवासीय शिविर का आयोजन किया। मगंलवार को इस कार्यक्रम का विधिवत रूप से समापन हुआ जिसमें स्थानीय ग्राम पंचायत पेखड़ी की प्रधान पुष्पा देवी ने बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की है। इस अवसर पर पंचायत सदस्य, स्कूल के पुराने छात्रों सहित स्कूल प्रबंधन समिति के पदाधिकारी और शिक्षकगण विशेष रूप से उपस्थित रहे।

बच्चों द्वारा मुख्य अतिथि का पारंपरिक तरीके से स्वागत किया गया। मुख्य अतिथि द्वारा द्वीप प्रजल्लन और मां सरस्वती के चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित करते हुए विधिवत रूप से इस कार्यक्रम का समापन किया गया। इस दौरान बच्चों द्वारा अनेकों रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए गए।

राष्ट्रीय सेवा योजना के कार्यक्रम अधिकारी एवं प्रवक्ता महेंद्र डोड ने जानकारी देते हुए बताया कि इस सात दिवसीय विशेष आवासीय शिविर में गुशैनी स्कूल जमा एक के कुल 37 विद्यार्थियों ने भाग लिया जिसमें 17 छात्र और 20 छात्राएं शामिल रही। इन्होंने बताया कि इस शिविर के दौरान बच्चों में व्यक्तित्व विकास के लिए अनेकों गतिविधियां आयोजित करवाई गई, जिनमें समुह कार्य, सफाई अभियान, पौधारोपण, योगाभ्यास, खेलकूद, पेंटिग, कुकिंग और अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रमुख रहे।

सप्ताह भर चले इस कार्यक्रम में एनएसएस स्वयंसेवकों को अभिप्रेरित करने के लिए प्रतिदिन किसी न किसी विशिष्ट व्यक्ति की ओर से अभिप्रेरणा व्याख्यान सत्र भी रखा गया था। जिसमे पर्यावरण संरक्षण, स्वास्थ्य, ग्रामीण पर्यटन, योगाभ्यास, साइबर क्राइम, नशाखोरी और समाजसेवा आदि विषयों पर इस शिविर में आए विशेषज्ञों द्वारा अपने अपने व्याख्यान प्रस्तुत किए। इस दौरान तीर्थन घाटी के वरिष्ठ पत्रकार एवं पर्यावरण प्रेमी दौलत भारती, पर्यटन एवं योगा प्रशिक्षक नीरज ठाकुर, प्राइमरी स्कूल प्रबंधन समिति के अध्यक्ष रमेश चंद, उप प्रधान मोहिंद्र सिंह आदि ने मुख्य रूप से स्वयंसेवियों का ज्ञानवर्धन किया है। इन्होंने शिविर में उपस्थित प्रतिभागियों को राष्ट्रिय सेवा योजना के मोटो के अनुरूप सेवाभाव से कार्य करने के लिए प्रेरित किया है।

एनएसएस प्रभारी एवं प्रवक्ता महेन्द्र डोड ने कहा कि विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास में राष्ट्रीय सेवा योजना का अहम योगदान होता है। इस प्रकार के शिविर में संचालित गतिविधियों से बच्चों के अंदर सेवा भाव पैदा होता है और कर्म के प्रति निष्ठा जैसे मूल्य विकसित होते हैं। इन्होंने कहा कि राष्ट्रीय सेवा योजना समाज और विद्यालय के मध्य एक कड़ी का काम करता है, जिससे समाज के प्रति विद्यार्थियों में अपने उत्तरदायित्वों की समझ पैदा होती है। इन्होंने बताया कि इस शिविर के दौरान प्रातः 5 बजे उठकर प्रभात फेरी, भजन कीर्तन और योगाभ्यास के साथ सभी स्वयंसेवको के दिन की शुरुआत होती रही। इसके पश्चात दिन को अन्य अनेकों गतिविधियां संचालित होती रही।

इस दौरान स्वामसेवियों द्वारा स्कूल परिसर, गुशैनी बाजार, मंदिर प्रांगण और आसपास सफाई अभियान चला कर प्लास्टिक कूड़ा कचरा आदि साफ किया गया और एक दिन वन विभाग कर्मचारियों के सहयोग से करीब चार सौ पेड़ों का पौधारोपण करके पर्यावरण संरक्षण और स्वच्छता का सन्देश दिया है।

मुख्य अतिथि ने इस शिविर के दौरान बच्चों द्वारा किए गए पौधारोपण और सफाई अभियान की सराहना की है और इनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की है। इन्होंने कहा कि प्रत्येक स्वंयसेवी को इस शिविर में हासिल ज्ञान से अपने परिवार और गांव समाज के लोगों को भी जागरूक करना चाहिए। इसके साथ ही इन्होंने बच्चों को बताया कि पेड़ लगाना तो आसान कार्य है लेकिन लगाए गए पेड़ का सरंक्षण संवर्धन करना भी जरूरी है।

इस अवसर पर एनएसएस महिला प्रभारी प्रवक्ता किरण, वार्ड पंच प्रताप सिंह, स्कूल प्रबंधन समिति अध्यक्ष यशपाल ठाकुर, सदस्य ईश्वा देवी, नीलमा देवी, दयावंती और योगेश कुमार आदि विशेष रूप से उपस्थित रहे।
दिनाँक:-27th, July 2022.