सांकेतिक तस्वीर

 आदर्श हिमाचल ब्यूरो 

देश के कई प्रमुख शहर वर्ष के अधिकांश भाग के लिए न केवल विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) बल्कि केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) की भी निर्धारित सीमा से ऊपर रहते हैं। राजस्थानपंजाबहरियाणा और झारखंड में पार्टिकुलेट मैटर के स्तरों की गहन जाँच से पता चलता है कि यहाँ समस्या सिर्फ मौसमी नहीं है।

अक्टूबर आते-आते,  जैसे ही आसमान स्लेटी होने लगता है और विज़िब्लिटी कम होने लगती है, मीडिया हो या राजनीति, या फिर खाने की मेज़ पर होने वाली बातचीत- हर तरफ वायु प्रदूषण भी बातचीत का एक हॉट टॉपिक बन जाता है। लेकिन, राजस्थान, पंजाब, हरियाणा और झारखंड में पार्टिकुलेट मैटर के स्तरों की गहन जाँच से पता चलता है कि यहाँ समस्या सिर्फ मौसमी नहीं है।

शोध डाटा इंगित करता है कि देश के कई प्रमुख शहर वर्ष के अधिकांश भाग के लिए न केवल विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) बल्कि केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (CPCB) की भी निर्धारित सीमा से ऊपर रहते हैं। कई अध्ययनों से पता चला है कि उच्च प्रदूषण के स्तरों से लंबे समय तक संपर्क दुनिया भर में हजारों लोगों की अकाल मृत्यु का कारण है।

ये भी पढ़ें: किन्नौर हादसा: पीएम मोदी ने मृतकों के परिजनों को 2 लाख मुआवजे देने की घोषणा की

बात सिर्फ़ इन चार राज्यों की ही करें तो यहाँ की कुछ झलकियां इस प्रकार हैं

  • जनवरी 2021 से अब तक शीर्ष 10 सबसे प्रदूषित शहरों में से आठ शहर उत्तर प्रदेश और हरियाणा राज्यों से हैं। सभी शहरों में CPCB की 40 ug/m3 की अनुमेय सीमा से अधिक औसत PM 2.5 सांद्रता है
  • पंजाब में, जनवरी और जून 2021 के बीच, भटिंडा और रूपनगर को छोड़कर, सभी मॉनिटर किये गए शहरों ने CPCB की अनुमेय सीमा से अधिक PM 2.5 की सांद्रता की सूचना दी। यह दर्शाता है कि प्रदूषण केवल उन महीनों की समस्या नहीं है जब राज्य में पराली जलाई जाती है
  • राजस्थान के जोधपुर और भिवाड़ी में 2020 में, जब देश मार्च से जून तक पूरी तरह से लॉकडाउन (तालाबंदी) में था, एक बार भी प्रदूषण के स्तर अनुमेय सीमा के भीतर नहीं देखे गए
  • हरियाणा में शीर्ष 10 प्रदूषित स्थानों में मासिक औसत PM 2.5 सांद्रता 81 ug/m3 और 98 ug/m3 के बीच दर्ज की गई
  • देश की कोयला राजधानी झारखंड में केवल एक कंटीन्यूअस अम्बिएंट एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग स्टेशन (निरंतर परिवेशी वायु गुणवत्ता निगरानी स्टेशन) (CAAQMS) और तीन मैनुअल मॉनिटरिंग स्टेशंस (दस्ती निगरानी स्टेशन) हैं। CAAQMS ने जुलाई 2020 से PM 2.5 डाटा रिकॉर्ड नहीं किया है

कुछ बात NCAP ट्रैकर की

NCAP ट्रैकर भारत के राष्ट्रीय स्वच्छ वायु कार्यक्रम के कार्यान्वयन और प्रभाव की व्यापक समीक्षा है। NCAP के तहत, सरकार का लक्ष्य भारत के पार्टिकुलेट मैटर (PM) वायु प्रदूषण को 30% तक कम करना है, और डाटा संकलन और मूल्यांकन के विभिन्न स्तरों के माध्यम से NCAP ट्रैकर इसकी प्रगति पर नज़र रखने में सक्षम बनाता है। ट्रैकर का कंटीन्यूअस एयर क्वालिटी मॉनिटरिंग डैशबोर्ड CPCB से डाटा सोर्स करता है। NCAP ट्रैकर CarbonCopy (कार्बनकॉपी) और Respirer Living Sciences (रेस्पिरर लिविंग साइंसेज) द्वारा संयुक्त रूप से शुरू की गई एक परियोजना है।

CAAQMS डैशबोर्ड का उपयोग करते हुए, पिछले कुछ महीनों और अधिक में देश और राजस्थान, पंजाब, चंडीगढ़, हरियाणा और झारखंड में प्रदूषण के स्तर का यहाँ एक स्नैपशॉट है।

राष्ट्रीय स्तर पर जुलाई को देश के शीर्ष 10 प्रदूषित शहर

गुजरात का शहर नंदेसरी 11 जुलाई को औसत PM 2.5 (2.5 माइक्रोन से कम का पार्टिकुलेट मैटर) सांद्रता की मात्रा 104 ug/m3 (माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर) के साथ सबसे अधिक प्रदूषित था, देश के शीर्ष 10 प्रदूषित शहरों में से छह (धारूहेड़ा, जींद, हिसार, रोहतक, फरीदाबाद, गुरुग्राम) हरियाणा के थे। सभी 10 शहरों ने 24 घंटे के औसत PM 2.5 को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के 25 ug/m3 के निर्धारित स्तर के दोगुने से अधिक बताया। शाम 7 बजे के आसपास नंदेसरी में PM 2.5 का स्तर 463 ug/m3 के चरम पर पहुंच गया, जो सभी शहरों में सबसे अधिक है। सबसे अपडेटेड दिन के आंकड़ों के लिए NCAP ट्रैकर पर जाएं।

इस वर्ष के शीर्ष 10 प्रदूषित शहर

2021 की पहली छमाही में, PM 10 (नीले रंग में चिह्नित) सांद्रता की मात्रा 266 ug/m3 और PM 2.5 सांद्रता (लाल रंग में चिह्नित) 115 ug/m3 की मात्रा के साथ, उत्तर प्रदेश का ग़ाज़ियाबाद देश का सबसे प्रदूषित शहर रहा है। गैर-लाभकारी संगठन लीगल इनिशिएटिव फॉर फॉरेस्ट एंड एनवायरनमेंट (LIFE) का हालिया विश्लेषण से बताता है कि ग़ाज़ियाबाद और नोएडा के सिटी एक्शन प्लान्स (शहर की कार्य योजनाएं) समान हैं और शहर को साफ़ करने के लिए कोई भी मात्रात्मक लक्ष्य या व्यापक योजना नहीं रखते हैं।

हरियाणा और उत्तर प्रदेश के शहर सूची में सबसे अधिक विशेष रुप से प्रदर्शित थे। हरियाणा में नारनौल को PM 10 की सांद्रता 223 ug/m3 की मात्रा के साथ 10-वें सबसे प्रदूषित शहर के रूप में रैंक किया गया है, जो केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की 60 ug/m3 की सुरक्षित सीमा से लगभग चार गुना अधिक है।राजस्थान के भिवाड़ी को भी 250 ug/m3 PM 10 सांद्रता के साथ सूची में शामिल किया गया है। सभी 10 शहरों में PM 2.5 के स्तर भी CPCB की 40 ug/m3 की सुरक्षित सीमा  से ऊपर रहा।

ये भी पढ़ें: कारगिल विजय की कहानी, कारगिल योद्धा की जुबानी

 

राजस्थान

राजस्थान के आठ शहरों – अजमेर, भिवाड़ी, जयपुर, जोधपुर, उदयपुर, कोटा, पाली और अलवर – में 10 CAAQMS लगे हैं। मॉनिटरों ने 70% अनिवार्य के मुकाबले 90% औसतन अपटाइम की सूचना दी। ग्लोबल बर्डन ऑफ डिज़ीज़ेज़ 2017 के अनुसार, राजस्थान में बाल मृत्यु दर की अधिकतम संख्या दर्ज की गई। वायु प्रदूषण से प्रति 1,00,000 में 126 बच्चों की मृत्यु हुई।

राजस्थान के शहरों में, केवल कुछ अपवादों के साथ, CPCB की सुरक्षित सीमा 40 ug/m3 से अधिक PM 2.5 सांद्रता दर्ज की गई है। कुछ अपवाद।

2020 में, जब देश मार्च से जून तक पूरी तरह से लॉकडाउन में था, जोधपुर और भिवाड़ी शहरों में एक बार भी अनुमेय सीमा के भीतर प्रदूषण का स्तर नहीं देखा गया।

इस वर्ष के पहले चार महीनों (जनवरी से अप्रैल) में भी, सभी मॉनिटर हुए शहरों – अजमेर, अलवर, भिवाड़ी, जयपुर, जोधपुर, कोटा, उदयपुर और पाली – में PM 2.5 सांद्रता का स्तर 40 ug/m3 की सुरक्षित सीमा से अधिक और WHO की 10 ug/m3 की सीमा के तिगुने से अधिक देखा गया है। बाद के महीनों में, मई में केवल अपवाद अलवर (31 ug/m3) और उदयपुर (39.5 ug/m3) थे और जून में केवल अपवाद अलवर (34 ug/m3), अजमेर (31 ug/m3), उदयपुर (35 ug/m3) और कोटा (37 ug/m3) थे। इस साल जून तक किसी भी शहर में PM 10 सांद्रता ने 60 ug/m3 के सुरक्षा मानक से मेल नहीं खाया।

भिवाड़ी शहर, जो दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र का हिस्सा है और स्टील मिलों और भट्टियों से लेकर ऑटोमोबाइल और इलेक्ट्रॉनिक्स निर्माण तक के बड़े, मध्यम और छोटे उद्योगों की एक श्रृंखला का केंद्र है, तीनों वर्षों (2019 – जून 2021) के दौरान उच्च PM 2.5, PM 10 और NO2 सांद्रता के साथ राज्य में सबसे प्रदूषित शहर है। उदाहरण के लिए, नवंबर 2020 में शहर की PM 2.5 सांद्रता 195 ug/m3 की पीक पर पहुंच गई। इस अवधि के दौरान, इसने अगस्त 2020 में PM 2.5 की मात्रा 34 ug/m3 दर्ज की गई, केवल एक बार जब ये CPCB की अनुमेय सीमा 40 ug/m से नीचे थी। नवंबर 2020 में, CPCB की 60 ug/m3 की सीमा के प्रतिकूल, भिवाड़ी में PM 10 की सांद्रता 358 ug/m3 को छू गई। NO2 का स्तर भी, मई से सितंबर को छोड़कर, 40 ug/m3 की अनुमेय सीमा से ऊपर रहा है।

राजस्थान में आपरेशनल CAAQMS में, भिवाड़ी में राजस्थान राज्य औद्योगिक विकास और निवेश निगम में उच्चतम मासिक औसत PM 2.5 सांद्रता 103 ug/m3 दर्ज की गई थी।  दिसंबर 2020 में CSE और राजस्थान प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के एक आकलन के अनुसार, भिवाड़ी औद्योगिक क्षेत्र का क्षेत्र के औद्योगिक प्रदूषण लोड (जयपुर-अलवर-भिवाड़ी एयर शेड) में लगभग 65% का योगदान है। भिवाड़ी में कुल 328 वायु प्रदूषण फैलाने वाले उद्योग हैं।

10 स्थानों में से तीन – पुलिस कमिश्नरी, शास्त्री नगर और आदर्श नगर जयपुर शहर के हैं। 2018 में जारी किये गए WHO के ग्लोबल अर्बन एम्बिएंट एयर पॉल्यूशन डाटाबेस 2016 के अनुसार, जयपुर और जोधपुर को क्रमशः दुनिया के 12-वें और 14-वें सबसे प्रदूषित शहरों का स्थान दिया गया। जनवरी 2020 में जयपुर में IIT-कानपुर द्वारा किए गए एक सोर्स अपपोरशंमेंट (स्रोत प्रभाजन) अध्ययन से पता चला है कि जबकि PM 2.5 के 47% सड़क की धूल और वाहनों से होने वाले उत्सर्जन से है, उद्योगों का योगदान क्रमशः 20% और 19% है।

पंजाब और चंडीगढ़

आठ मॉनिटर हैं – अमृतसर, भटिंडा, जालंधर, लुधियाना, पटियाला, खन्ना, रूपनगर और मंडी गोबिंदगढ़ शहरों में एक-एक। मॉनिटर्स 89% के अपटाइम की रिपोर्ट करते हैं। केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ में 87% अपटाइम के साथ एक CAAQMS भी है।

अक्टूबर से जनवरी के महीनों में (तीनों वर्षों में) जब पराली जलाने और सर्दी की स्थिति अपने चरम पर होती है, पंजाब में मॉनिटर किए गए सभी आठ शहरों में उच्च PM 2.5 सांद्रता देखी गई, लेकिन प्रदूषण का स्तर बाक़ी साल में भी केवल थोड़ा ही बेहतर है। उदाहरण के लिए, जनवरी और जून 2021 के बीच, भटिंडा और रूपनगर को छोड़कर सभी शहरों ने CPCB की अनुमेय सीमा से अधिक PM 2.5 सांद्रता रिपोर्ट करी। 2020 में, मार्च, अप्रैल और अगस्त के लॉकडाउन महीनों में, जब राज्य में बारिश होती है, सभी शहरों ने PM 2.5 के स्टार को को 40 ug/m3 से नीचे पाया। 2019 के पूर्व-महामारी वर्ष में, केवल जुलाई से सितंबर के मानसून के महीनों में सभी आठ शहरों ने CPCB की अनुमेय सीमा के तहत PM 2.5 के स्तर दर्ज किये। अक्टूबर से प्रदूषण का स्तर बढ़ना शुरू हो जाता है जब खरीफ की फसल कटाई के लिए तैयार होती है।

इन्फ्लुएंस ऑफ़ एग्रीकल्चरल एक्टिविटीज़ ऑन एटमोस्फियरिक पॉल्यूशन ड्यूरिंग पोस्ट मॉनसून हार्वेस्टिंग सीज़न्स एैट अ रूरल लोकेशन ऑफ़ इंडो गैंजेटिक प्लेन (सिन्धु-गंगा के मैदान के एक ग्रामीण स्थान पर मानसून के बाद कटाई के मौसम के दौरान वायुमंडलीय प्रदूषण पर कृषि गतिविधियों का प्रभाव) शीर्षक वाला एक हालिया पेपर इस बात पर प्रकाश डालता है कि IGP क्षेत्र में मानसून के बाद के वायु प्रदूषण के लिए अकेले फ़सल अवशेष जलाने को दोषी नहीं ठहराया जा सकता है। पेपर के लेखक और पर्यावरण स्वास्थ्य के प्रोफेसरस्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ PGIMER, चंडीगढ़रवींद्र खैवाल ने कहा, क्षेत्र में वायु प्रदूषण को मिटिगेट करने के लिएकेवल फ़सल अवशेष जलाने पर अंकुश लगाने के बजायजो निस्संदेह एक प्रमुख स्रोत हैसभी कृषि उत्सर्जन पर ध्यान देने की आवश्यकता है। इसके अलावामौसम विज्ञान की भूमिका को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है क्योंकि मानसून के बाद के मौसम में वायु द्रव्यमान का 70-86% हिस्सा 500 km के भीतर उत्पन्न होता हैजहां ये कृषि गतिविधियां होती हैं।

कई वर्षों में, मंडी गोबिंदगढ़ ने कुछ महीनों को छोड़कर मॉनिटर होने वाले शहरों में प्रदूषण का चरम स्तर दर्ज किया है। यह पंजाब के स्टील सिटी (इस्पात शहर) के रूप में भी जाना जाता है, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अनुसार उद्योगों द्वारा लगभग 50% प्रदूषण होता है। सभी रोलिंग मिल, कपोला भट्टियां और सिरेमिक इकाइयां अपनी भट्टियों में ईंधन के रूप में कोयले/भट्ठी के तेल का उपयोग करती हैं जिससे बड़ी मात्रा में कण पदार्थ, सल्फर डाइ-ऑक्साइड और नाइट्रोजन के ऑक्साइड आदि उत्सर्जित होते हैं।

WHO के ग्लोबल अर्बन एम्बिएंट एयर पॉल्यूशन डाटाबेस ने 2018 में पटियाला को दुनिया के 13-वें सबसे प्रदूषित शहर का स्थान दिया। हालांकि साल दर साल तुलना (नीचे दिए गए चित्र में) से पता चलता है कि शहर में PM 2.5 की सांद्रता केवल बढ़ रही है। शहर की क्लाइमेट एक्शन प्लान (जलवायु कार्य योजना) के अनुसार, वाहनों से होने वाला उत्सर्जन प्रदूषण का 48% हिस्सा बनाता है।

2019 से 2021 तक के मासिक औसत के आधार पर पंजाब में सबसे प्रदूषित स्थान मंडी गोबिंदगढ़ शहर में पाया गया। 63 ug/m3 के PM 2.5 के स्तर के साथ, सांद्रता WHO के 10 ug/m3 के वार्षिक सुरक्षा दिशानिर्देश से छह गुना अधिक थी। यदि मौसमी औसत को ध्यान में रखा जाए, तो अक्टूबर से फरवरी के सर्दियों के महीनों के दौरान उसी स्थान पर PM 2.5 की सांद्रता 85 ug/m3 दर्ज की जाती है।

हरयाणा

हरियाणा में वायु गुणवत्ता की मॉनिटरिंग राज्य के 24 शहरों में फैले 30 CAAQMS के माध्यम से होती है। देश के 10 सबसे प्रदूषित शहरों में से चार (फरीदाबाद, सोनीपत, नारनौल और धारूहेड़ा) हरियाणा से हैं। नीचे उन शहरों और कुछ और में PM 2.5 के स्तर का स्नैपशॉट दिया गया है।

जबकि सर्दियों के दौरान उच्च प्रदूषण का स्तर स्पष्ट होता है, ऊपर बताए गए आठ शहरों में से अधिकांश में PM 2.5 की सांद्रता पूरे वर्ष में 40 ug/m3 की अनुमेय सीमा से अधिक है। नवंबर 2020 में PM 2.5 का स्तर चरम पर था जब फतेहाबाद ने 241ug/m3 की सांद्रता दर्ज की, जो कि अनुमेय सीमा से छह गुना है। 2019 में पूर्व-कोविड समय के दौरान शहरों ने केवल अगस्त और सितंबर के मानसून महीनों में सुरक्षित सीमा के भीतर PM 2.5 सांद्रता स्तर देखे। 2020 में, प्रदूषण का स्तर तुलनात्मक रूप से कम था (विज़-ए-विज़) अप्रैल में, संभवतः कोविड -19 लॉकडाउन के कारण और फिर अगस्त और सितंबर के मानसून के महीनों में। इस साल, सभी आठ शहरों में अब तक के सभी महीनों में PM 2.5 की मात्रा अनुमेय सीमा से अधिक दर्ज की गई है। अन्य शहरों के लिए अधिक विस्तृत डाटा NCAP ट्रैकर पर उपलब्ध है।

हरियाणा में शीर्ष 10 प्रदूषित स्थानों में मासिक औसत PM 2.5 सांद्रता 81 ug/m3 और 98 ug/m3 की रेंज में दर्ज की गई, जिसमें सेक्टर 51, गुरुग्राम तालिका में सबसे ऊपर है। उसी स्थान के लिए, सर्दियों के महीनों (अक्टूबर से फरवरी) में PM 2.5 की औसत सांद्रता 175 ug/m3 के स्तर पर लगभग दोगुनी है। मॉनसून के महीनों में भी, चरखी दादरी में मिनी सचिवालय के सबसे प्रदूषित स्थान में CPCB सुरक्षा दिशानिर्देशों से काफी ऊपर, 55 ug/m3 की औसत PM 2.5 सांद्रता दर्ज की गई।

ये भी पढ़ें: विशेष: जलवायु परिवर्तन की इस रिपोर्ट पर होगी दुनिया भर की नज़र

झारखंड

कोयला खदानों, ताप विद्युत संयंत्रों और कई अन्य उद्योगों के उच्च घनत्व का केंद्र, झारखंड राज्य में धनबाद से लगभग 13 kms दूर जोरापोखर में केवल एक CAAQMS है और धनबाद में सिर्फ तीन मैनुअल मॉनिटर हैं। डैशबोर्ड ने जुलाई 2020 से PM 2.5 का स्तर दर्ज नहीं किया है क्योंकि मॉनिटरों ने शून्य के अपटाइम की सूचना दी है जो यह संकेत दे सकता है कि यह गैर-कार्यात्मक था।

ह्यूमन हेल्थ एंड एनवीरोंमेंटेल इम्पैटस ऑफ़ कोल कंबस्शन अब्द पोस्ट-कंबस्शन वेस्ट्स (कोयला दहन और दहन के बाद के कचरे के मानव स्वास्थ्य और पर्यावरणीय प्रभाव) शीर्षक वाले एक पेपर के अनुसार, कोयला दहन संयंत्रों में उत्पादित भारी धातु के ट्रेसेस त्वचा और फेफड़ों के कैंसर, हृदय रोग, पेट दर्द, जीन उत्परिवर्तन, ल्यूकेमिया और कोमा जिसके परिणामस्वरूप मृत्यु हो जाती है जैसी गंभीर बीमारियों का कारण बन रहे हैं। स्वास्थ्य और जलवायु परिवर्तन पर पांचवें लैंसेट काउंटडाउन का अनुमान है कि भारत में 2018 में अकेले कोयले से जुड़े उत्सर्जन से 95,820 मौतें जुड़ी हैं।

2020 में देश भर में लॉकडाउन के बावजूद, झारखंड में PM 10 के स्तर अधिकांश वर्ष के लिए CPCB की 60 ug/m3 की अनुमेय सीमा से ऊपर रहे। यह केवल अगस्त और सितंबर के दौरान 60 ug/m3 से नीचे गया, जो लॉकडाउन के महीने नहीं थे और इसलिए यह मौसम प्रणालियों का परिणाम हो सकता है। ऐसा ही ट्रेंड 2019 में जुलाई, अगस्त और सितंबर में देखने को मिला था। अब तक 2021 के लिए भी PM 10 का स्तर अनुमेय सीमा से ऊपर रहा है।

राष्ट्रीय वायु गुणवत्ता मॉनिटरिंग कार्यक्रम (NAMP) के तहत धनबाद में स्थापित तीन मैनुअल मॉनिटरिंग स्टेशनों के डाटा से पता चलता है कि PM 10 की सांद्रता 2016 में 226 ug/m3 से बढ़कर 2018 में 263 ug/m3 हो गई। 2019 और 2020 का डाटा अभी तक उपलब्ध नहीं है।

Related Posts