प्रदेश सरकार ने केन्द्र के दवाब में लिया बाहरी लोगों को प्रदेश के अंदर प्रवेश का यह गलत फैसला – कुलदीप सिंह राठौर

बोले ... प्रदेश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 1077 होने पर भी सरकार नहीं कर रही गौर

आदर्श हिमाचल ब्यूरो

 

Ads
शिमला।  कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने प्रदेश में कोविड19 के चलते बाहरी लोगों को प्रदेश की सीमाएं खोलने के सरकार के निर्णय को सवाल उठाते हुए कहा है कि प्रदेश सरकार ने केन्द्र के दबाब में यह गलत फैंसला लिया है।उन्होंने कहा कि केंद्र ने प्रदेश सरकार के आग्रह के विपरीत यह फैंसला लिया है जो आने वाले समय मे प्रदेश के लिए घातक सिद्ध हो सकता है।

यह भी पढ़ेः- कांग्रेस प्रभारी रजनी पाटिल ने जारी किए निर्देश, पार्टी का कोई भी नेता अखबारों के माध्यम से नहीं रखेगा अपनी बात

कांग्रेस मुख्यालय राजीव भवन में पत्रकारों को संबोधित करते हुए राठौर ने कहा कि प्रदेश सरकार अपना पक्ष मजबूती से नही रख सकी।उन्होंने कहा कि कोरोना माहमारी से अब तक देश मे 7 लाख से अधिक संक्रमित हुए है जबकि 20 हजार से अधिक लोग मौत का शिकार बने है।उन्होंने कहा कि इसी तरह प्रदेश जो एक समय पूरी तरह संक्रमण मुक्त था आज 1077 लोग संक्रमित हो गए है जबकि 11 लोग मौत का शिकार हुए है।उन्होंने कहा कि यह सब प्रदेश सरकार की खामियों की बजह से हुआ।
    राठौर ने कहा कि अगर समय रहते राहुल गांधी की चेतावनी पर गौर किया होता तो देश की आज यह स्थिति न होती,पर उस समय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी नमस्ते ट्रम्प और मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार तोड़ने और अपनी भाजपा की सरकार का तानाबाना बुनने में लगे थे।
राठौर ने कहा कि देश मे लॉक डाउन से क्या हासिल हुआ।आज देश प्रदेश में जो इसके संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ रही है वह बहुत ही चिंता का विषय है।
राठौर ने प्रदेश की सीमाएं पर्यटकों के लिए खोलने के निर्णय पर हैरानी जताते हुए कहा कि  आधे अधूरे प्रबंधों के साथ ऐसा निर्णय प्रदेश के लिए घातक सिद्ध होगा।उन्होंने कहा कि प्रदेश एक पर्यटक स्थल है।अधिक्तर होटल ग्रामीण क्षेत्रों में ही है।ऐसे में अगर इन क्षेत्रों में संक्रमण फैलता है तो स्थिति भयानक हो  सकती है,जबकि ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाएं भी पूरी नही है।
   राठौर ने मुख्यमंत्री से जानना चाहा कि कही यह निर्णय उनके उस हिस्से का तो नही है जिसमें उन्होंने प्रदेश के होटलों को क्वारन्टीन डेस्टिनेशन बनाने की बात कही थी। उन्होंने कहा कि होटल व्यवसाय से जुड़े लोग भी इस निर्णय से खुश नही है।इसलिए प्रदेश सरकार को अपने इस निर्णय पर पुनर्विचार कर इसे प्रदेश हित मे तब तक रद्द करना चाहिए जबतक की कोविड 19 का डर दूर नही हो जाता। उन्होंने प्रधानमंत्री के उस वक्तव्य पर जिसमें उन्होंने कहा है कि अब हमें कोरोना के साथ ही जीना सीखना पड़ेगा पर कहा कि ऐसा लगता है कि सरकार ने अब अपने हाथ खड़े कर दिए है।देश प्रदेश के लोगों को राम भरोसे छोड़ दिया है।
  राठौर ने कारगिल युद्ध के शहीद प्रदेश के परम वीर चक्र से समानित कैप्टन विक्रम बतरा को उनकी पुष्प तिथि पर अपने श्रद्धा सुमन भी अर्पित किए।
राठौर ने कहा कि प्रदेश कांग्रेस अपने सामाजिक दायित्व के तहत 9 जुलाई से 16 जुलाई तक प्रदेशभर में बृक्षारोपण का आयोजन करेगी।उन्होंने बताया कि कांग्रेस पार्टी अपने सभी ब्लॉकों में इसका आयोजन करेगी। उन्होंने बताया कि 9 जुलाई को वह खुद शिमला के क्लिस्टन में इस पौधरोपण का शुभारंभ करेंगे। राठौर ने मुख्यमंत्री से बागवानों की लेबर समस्या का भी जल्द दूर करने की मांग करते हुए कहा है कि प्रदेश में पांच हजार करोड़ की आर्थकी कही सरकार की बेरुखी से चौपट न हो जाये।