रामपुर में शिक्षिका आत्महत्या मामले में आरोपियों को हाईकोर्ट से मिली जमानत

रामपुर पुलिस पर भी लगाए गए लापरवाही के आरोप, मामले की जांच के लिए शिमला पुलिस ने की है टीम गठित

आदर्श हिमाचल ब्यूरो

शिमला। उपमंडल रामपुर में बीते दिनों एक शिक्षिका का आत्महत्या मामले में आरोपी बनाए गए लोगों को मंगलवार को हाईकोर्ट से जमानत मिल गई है। मामले की जांच फिलहाल चल रही है। शिमला पुलिस ने इसके लिए एक टीम का गठन किया है। बता दें कि बीते नौ जून को डीएनवी स्कूल की शिक्षिका ने अपने कमरे में फंदे से लटकर जान दे दी थी। बताया जा रहा था कि शिक्षिका को उसी के ससुराल पक्ष के कुछ लोगों ने आत्महत्या के लिए उकसाया है। इस मामले में जहां स्थानीय लोगों ने रामपुर पुलिस पर भी लापरवारी बरतने के आरोप लगाए तो वहीं लोगों ने शिक्षिका को इंसाफ दिलाने के लिए प्रदर्शन भी किए।

Ads

यह भी पढ़ेः- पेट्रोल-डीज़ल की कीमतों में कटौती करें सरकार- कपिल ठाकुर

आत्महत्या से पहले मृतका ने एक नोट प्रोपर्टी विवाद को लेकर सोशल मीडिया में पोस्ट किया था। जिसकी पुलिस जांच कर रही थी। इस मामले में दिव्या के ससुराल पक्ष में से कुछ लोगों को पुलिस ने हिरासत में भी लिया था। इसके बाद आरोपियों ने हाई कोर्ट में जमानत की अर्जी लगाई थी। वहीं इस बारे में एएसपी शिमला प्रवीर ठाकुर ने बताया कि मंगलवार को मामले में आरोपित बनाए गए सभी लोगों को हाईकोर्ट ने जमानत दे दी है। मामले की जांच जारी है।