सांकेतिक तस्वीर

आदर्श हिमाचल ब्यूरो

स्टील उत्पादन में लगी कंपनियों को  कार्बन उत्सर्जन  मुक्त बनाने की तमाम  प्रतिबद्धताओं के बावजूददुनिया के  स्टील उत्पादन और विकास में आज  भी पारंपरिककोयला आधारित स्टील निर्माण का बोलबाला हैजिनसे  वैश्विक जलवायु परिवर्तन रोकने के लिए तय पेरिस  लक्ष्यों के मिटने का खतरा  मंडरा रहा है।

यह कहना है ऊर्जा अनुसंधान समूह ग्लोबल एनर्जी मॉनिटर(GEM) की “पेडल टू द मेटल: नो टाइम टू डिले स्टील सेक्टर डीकार्बोनाइजेशन।”  नाम की नई रिपोर्ट का। यह रिपोर्ट विश्व के सभी कच्चे स्टील संयंत्रों जिनकी क्षमता कम से कम एक मिलियन टन प्रति वर्ष है,  के पहले व्यापक सर्वेक्षण पर आधारित है। इसमें हुए सर्वेक्षण के अनुसार, 60% से अधिक वैश्विक स्टील निर्माण क्षमता ब्लास्ट फर्नेस-बेसिक ऑक्सीजन फर्नेस (BF-BOF) निर्माण विधि अपनाती हैं जो कि स्टील के उत्पादन की सबसे अधिक कार्बन उत्सर्जन करने वाली  विधि है। यही नहीं, निर्माणाधीन वैश्विक स्टील क्षमता का तीन चौथाई से अधिक कोयला जलाने वाली   ब्लास्ट   फर्नेस-बेसिक ऑक्सीजन फर्नेसBF-BOF रास्ता अपनाने की योजना बनाये बैठे हैं।

इस सन्दर्भ में बात भारत की करें तो कुछ मुख्य बातें इस प्रकार हैं

·        ग्लोबल स्टील प्लांट ट्रैकर (GSPT) के अनुसारभारत के पास 90.1 मिलियन टन प्रति वर्ष (mtpa) ऑपरेटिंग स्टीलमेकिंग क्षमता हैजो केवल चीन (1,023.7 mtpa) और जापान (117.1 mtpa) के पीछे है।

·        भारत की परिचालन क्षमता का मेकअप 63% बेसिक फर्नेस-बेसिक ऑक्सीज फर्नेस (56.7 mtpa), 24% EAF (21.8 mtpa), और 3% OHF (2.5 mtpa) हैतीनों के संयोजन के शेष 10% (9.1 mtpa) के साथ।

·        2020 मेंभारत में स्टील क्षेत्र ने 242 मीट्रिक टन CO2, भारत के औद्योगिक CO2 उत्सर्जन का 35% हिस्सा और 2010 से 33% की वृद्धि (183 मीट्रिक टन CO2 समतुल्य) का उत्सर्जन किया।

·        2015 से 2019 तक भारत में स्टील का उत्पादन 89 से 111 मिलियन मीट्रिक टन तक लगातार बढ़ रहा थाजो 2020 में कोविड –19 महामारी से मंदी के कारण 100 मिलियन टन तक गिरा था। तेज़ी से औद्योगिकीकरण होने वाले देश में स्टील का उत्पादन 2050 तक चौगुना होने का अनुमान है।

·        भारत इस मायने में अद्वितीय है कि इसमें बड़ी मात्रा में डायरेक्ट रिड्यूस्ड आयरन कैपेसिटी (प्रत्यक्ष रूप से घटी हुई लौह क्षमता) (52 mtpa) है जो मुख्य रूप से कोयले से संचालित होती है। पर बेसिक फर्नेस-बेसिक ऑक्सीजन फर्नेस उत्पादन पद्धति के विपरीतडायरेक्ट रिड्यूस्ड आयरन से उत्सर्जन को कम करने वाली गैस के रूप में रिन्यूएबल-आधारित हाइड्रोजन के साथ जीवाश्म ईंधन की अदला-बदली करके अधिक आसानी से समाप्त किया जा सकता हैजिसका अर्थ है कि भारत स्टील क्षेत्र के डीकार्बोनाइजेशन के लिए कई देशों की तुलना में बेहतर स्थिति में है।

·        भारत की सबसे बड़ी निजी स्टील कंपनियां डीकार्बोनाइजेशन की ओर बढ़ रही हैं। JSW Steel और Tata Steel यूरोप ने 2050 तक कार्बन-न्यूट्रल होने के लिए प्रतिबद्ध हुए हैं और JSW स्टील का लक्ष्य 2030 तक अपने कार्बन डाइऑक्साइड उत्सर्जन में 40% से अधिक (2005 के स्तर से नीचे) कटौती करना है।

ग्लोबल एनर्जी मॉनिटर (GEM) की इस रिपोर्ट में पाया गया कि स्टील बनाने और इस इंडस्ट्री में इस्तेमाल होने वाले कोयले की सप्लाई के लिए वर्तमान में 78 धातु-उद्योग-संबंधी कोयला खदानें हैंजो वैश्विक प्रस्तावित कोयला खदान क्षमता के 20% (455 मिलियन टन प्रति वर्ष- mtpa कोयला) की हिस्सेदार हैं। GEM ने गणना की कि इन प्रस्तावित धातु-उद्योग-संबंधी कोयला खदानों से लगभग 3.5 मिलियन टन प्रति वर्ष (mtpa) के संभावित मीथेन रिसाव का खतरा है। स्टील निर्माण उत्सर्जन गणना में इन उत्सर्जनों का हिसाब नहीं किया जाता हैजिसका अर्थ है कि कोयला आधारित डायरेक्ट रेसीडूयूड  आयरन (DRI) और ब्लास्ट फर्नेस (BF)  स्टील निर्माण से ग्रीन स्टील प्रौद्योगिकियों पर स्विच करने की उत्सर्जन बचत क्षमता वर्तमान में रिपोर्ट की गई से ज़्यादा है। 2050 तक IEA नेट-ज़ीरो परिदृश्य (NZE) के अनुसारग्लोबल वार्मिंग को 1.5 डिग्री सेल्सियस तक रखने के लिए 2021 के बाद कोई नया कोयला खदान या खदान विस्तार नहीं होना चाहिए।

·        वैश्विक स्टील क्षमता का तीन-चौथाई से अधिक अब स्टील बनाने वाली कंपनियों और देशों से नेट-ज़ीरो और कम उत्सर्जन कार्बन प्रतिबद्धताओं के अंतर्गत आता है।

·        फिर भी ग्लोबल स्टील प्लांट ट्रैकर (वैश्विक स्टील संयंत्र ट्रैकर) में वर्तमान में निर्माणाधीन 75% से अधिक स्टील क्षमता ब्लास्ट फर्नेस-बेसिक ऑक्सीजन फर्नेस (Bf-BOF) का उपयोग करती हैजो स्टील के उत्पादन की सबसे कार्बन-गहन पारंपरिक विधि है।

·        स्टील उद्योग विकासाधीन कार्बन गहन स्टील संयंत्रों के लिए फंसी हुई परिसंपत्तियों में 47-70 बिलियन अमरीकी डालर के जोखिम का सामना कर रहा है।

·        2020 में कुल उत्पादन के प्रतिशत के रूप में सबसे अधिक क्षमता वाले देश 26.6% के साथ EU27+UK, 23.7% के साथ जापान, 20.0% के साथ US और 13.5% से 20.0% के बीच चीन थे।

·        ग्लोबल स्टील प्लांट ट्रैकर (GSPT) के अनुसारजापान में 117 मिलियन टन प्रति वर्ष (mtpa) ऑपरेटिंग स्टीलमेकिंग क्षमता (कम से कम 1 mtpa में से ) है; 1 मिलियन टन प्रति वर्ष (mpta) से कम क्षमता वाले संयंत्रों सहित देश की कुल परिचालन स्टील बनाने की क्षमता 130 मिलियन टन प्रति वर्ष (mpta) है।

·        ग्लोबल स्टील प्लांट ट्रैकर के अनुसार, जापान स्टीलमेकिंग क्षमता के संचालन के लिए चीन के बाद दूसरे स्थान पर हैजिसमें से लगभग तीन-चौथाई (85 mtpa) ब्लास्ट फर्नेस-बेसिक ऑक्सीजन फर्नेस है।

·        स्टील उद्योग देश के विनिर्माण उद्योगों में सबसे बड़ा उत्सर्जक है, जो देश के 2019 CO2 उत्सर्जन का 16% (1,030 मिलियन मीट्रिक टन का 172) बनाता है।

·        चीन दुनिया की स्टील बनाने की क्षमता के आधे से अधिक, और स्टील संयंत्रों से वैश्विक कार्बन उत्सर्जन के 60% से अधिकका घर है।

·        ग्लोबल स्टील प्लांट ट्रैकर (GSPT) के अनुसारचीन में स्टील प्लांट दुनिया की स्टील बनाने की क्षमता का 51% (2,010 mtpa का 1,023 mtpa) हिस्सा हैंहालांकि अतिरिक्त गैर-रिपोर्टेड ऑपरेटिंग क्षमता चीन की वैश्विक क्षमता का हिस्सा 58% तक बढ़ा सकती है। .

·        चीन की ऑपरेटिंग स्टील क्षमता का लगभग 77% (790 mtpa) ब्लास्ट फर्नेस-बेसिक ऑक्सीजन फर्नेस स्टीलमेकिंग हैजो इलेक्ट्रिक आर्क फर्नेस स्टीलमेकिंग की तुलना में काफ़ी अधिक कार्बन-गहन और स्टीलमेकिंग प्रक्रिया के डीकार्बोनाइज में मुश्किल है।

·        GSPT के अनुसार जापान में 117 मिलियन टन प्रति वर्ष ऑपरेटिंग स्टीलमेकिंग क्षमता (कम से कम 1 mtpa में से) है; 1 mtpa से कम क्षमता वाले संयंत्रों सहित देश की कुल परिचालन स्टील निर्माण क्षमता 130 mtpa तक है।

·        ग्लोबल स्टील प्लांट ट्रैकर के अनुसार, जापान स्टीलमेकिंग क्षमता के संचालन में चीन के बाद दूसरे स्थान पर हैजिसमें से लगभग तीन-चौथाई (85 mtpa) ब्लास्ट फर्नेस-बेसिक ऑक्सीजन फर्नेस है।

जलवायु परिवर्तन रोकने के लिए सुझाये गए सभी रास्तों से यह बात साफ़ है कि  हमें वर्तमान स्टील बेड़े की कोयला-इंटेंसिव यानी कोयला पर अत्यधिक निर्भर  स्टील मेकिंग से विद्युतीकृत या बिजली पर आधारित  स्टीलमेकिंग में बदलने की ज़रुरत  है। स्टील उद्योग को डीकार्बोनाइजेशन के मामले में मेटल पर पेडल लगाने की जरूरत है,”  GEM की शोधकर्ता और विश्लेषक और रिपोर्ट की प्रमुख लेखककेटलिन स्वालिक ने कहा।

GEM की कोयला कार्यक्रम निदेशकक्रिस्टीन शीयरयरने कहा, “नए कोयला ब्लास्ट फर्नेस बनाना स्टील उत्पादकों के लिए एक बुरा दांव है और ग्रह के लिए एक बुरा दांव है। कोयला आधारित स्टील निर्माण क्षमता पहले से ही उत्पादन से कहीं अधिक हैऔर अधिक निर्माण करने की कोई आवश्यकता नहीं है।”

रिपोर्ट में यह भी पाया गया है कि वैश्विक स्टील निर्माण क्षमता उत्पादन की तुलना में लगभग 25% अधिक हैकई पुराने और प्रदूषणकारी स्टील संयंत्रों को वैश्विक आपूर्ति को बाधित किए बिना बंद किया जा सकता है। 2020 में कुल उत्पादन के प्रतिशत के रूप में सबसे अधिक क्षमता वाले देश EU27+UK 26.6%, जापान 23.7%, US 20.0% और चीन 13.5% और 20.0% के बीच थे।

Related Posts