एपीजी यूनिवर्सिटी में अब छात्रों को दी जाएगी एनसीसी ट्रेनिंग, दुश्मनों को सबक सिखाने का सुनहरा मौका

कुलपति रमेश कुमार चौधरी बोले .... युवाओं को पढाई-लिखाई के साथ इस तरह की ट्रेनिंग देना अंत्यंत आवश्यक 

आदर्श हिमाचल ब्यूरो

शिमला। स्थानीय एपी गोयल शिमला विश्वविद्यालय दिन प्रतिदिन सफलता की सीढ़ियां चढ़ रहा है। मानव संसाधन मंत्रालय का स्वयं प्रभा एन पी टी ई एल ऑनलाइन पढ़ाई प्रोजेक्ट मिलने के बाद एपी गोयल शिमला विश्विद्यालय अपने छात्रों की अव्वल दर्जे की पढ़ाई के साथ-साथ अब कैडेट्स भी तैयार करेगा यानी एपी गोयल विश्विद्यालय के छात्र दरअसल देशभक्ति और अनुशासन का पाठ पढ़ाने के लिए एपीजी के छात्रों को एन सी सी की भी ट्रेनिंग देगा। जी हां, एन सी सी यानी कि नेशनल कैडेट कोर जिसके अंतर्गत सेना, नौसेना और वायु सेना की अलग अलग विंग शामिल है।
यह भी पढ़ेंः- राष्ट्र स्तरीय संस्थानों पर लग रहे भ्रष्टाचार के आरोपों पर केंद्र से बात करें मुख्यमंत्री – राणा
जानकारी के मुताबिक एन सी सी की ट्रेनिंग विश्वविद्यालय में इसी साल के शैक्षणिक सत्र से शुरू हो जाएगी और लगभग अस्सी छात्रों को एन सी सी ट्रेनिंग लेने का मौका मिलेगा और ट्रेनिंग के दौरान छात्रों को अनुशासन और राष्ट्रीय एकता की सीख दी जाएगी। एपी गोयल शिमला विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोण् डॉण् रमेश कुमार चौधरी ने बताया कि साथ ही देश की तीनों प्रमुख सेनाओं से संबंधित होने के कारण छात्रों में सेना के प्रति सम्मानए राष्ट्र के प्रति गौरव और राष्ट्र.निर्माण में छात्रों के योगदान का महत्व सीखने का मौका मिलेगा और साथ ही अपने देश भारत की सीमाओं पर चीन-पाकिस्तान जैसे दुशमनों को सबक सिखाने का मौका भी मिलेगा। कुलपति ने कहा कि युवाओं को पढाई-लिखाई के साथ इस तरह की ट्रेनिंग देकर हम भारतीय सेना के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चीन जैसे शत्रु देश की सेना को ढेर करने में और अधिक सक्षम होंगें, उन्होंने कहा कि भारत के पास युवा शक्ति है और जरूरत पड़ने पर चीन को करारा जवाब मिलेगा।
कुलपति ने कहा कि चीन 1962 वाले भारत को भूल जाएं यह 2020 का भारत है जिसकी शक्ति युवाओं में बसती है। कुलपति चौधरी ने जानकारी दी कि जो छात्र डिफेंस में आगे बढ़ना चाहते हैं उन्हें फौज की बेसिक ट्रेनिंग के साथ-साथ एन सी सी सर्टिफिकेट का फायदा मिलेगा। विश्वविद्यालय में एन सी सी ट्रेनिंग को सुचारू रूप से एपीजी कैंपस में शुरू करने के लिए एपी गोयल शिमला विश्वविद्यालय ने समिति बनाई है जिसके अध्यक्ष डीन एकेडेमिक्स प्रो. डॉ. कुलदीप कुमार को चुना गया जिन्हें एन सी सी ट्रेनिंग का अनुभव भी है साथ ही छात्रों की ट्रेनिंग की देखरेख के लिए सेना की ओर से अफसर, कर्नल सुनीत शंकता अफसर कमांडिंग विजिट करते रहेंगे।

Ads